Zee News Hindi: Latest News

शुक्रवार, 26 अगस्त 2011

पहले मै भारत की उस वीरप्रसुता नारी को प्रणाम करता हूँ जिसने लज्जा और मर्यादा को अपने साथ आँगिकार कर देश को महासपूत दिये अब मै उस आधुनिक नारी को तिँलाजली देता हु जो नारी समाज को पश्चिमी संस्कृति मे धकेलने मे प्रयास रत है आज वो इतनि मार्डन हो ग ई है कि वो सुँदरी कम काम सुंदरी ज्यादा हो ग ई है और भारतिय संस्कृति का बदन उघाड़ने के लिये आतुर है और हमारा महिला आयोग उनका सर्मथन करता है आज कल एक मोर्चे की बड़ी चर्चा है बेशर्मी मोर्चा जो कनाडा के टोँरटो से निकल कर हमारे भारत मे कब आ गया ये पता ही नही चला ओर नारी जगत ने अनुसरण मी कर लिया और भारतिय समाज मे अपने अधिकर का ढिँढोरा पीटते हुये एक न ई विचार धार को जन्म दिया जो नारी को और अधिक उन्मुक्त और बे शर्म बना रहा है ये आधुनिक कामकन्याये नारी को कौन सी दिशा दे रही है आज नारी को किसी बेशर्मी मोर्चे की नही बल्कि उस मोर्चे कि अवश्तकता है जो उन्है भारतीय पंरपरा के साथ अपने मूलभूत अधिकार और स्थिती को सुधारने की अवशयकता है आज भी मध्यम और निम्न वर्गीय महिलाऐ शोषण ओर अधिकारो से वँचित है और दहेज हत्या जैसे वीभत्स पीड़ा झेल रही है इसके विपरित आधुनिक कन्याओ का बेशर्मी मोर्चा क्या सँकेत देता है और क ई NGO बेशर्मी मोर्चे को नारी कि जागरूकता बता रहै है आज भारत कि नारी को संविधान ने जो बराबर का हक दिया है उसका उपयोग कम दुरपयोग ज्यादा हो रहा आज भारत कि नारी को सम्मान तभी मिलेगा जब वह आधुनिकता के साथ साथ भारतीय परँपरा के साथ चलेगी जय हिँद

1 टिप्पणी:

  1. खूब पढ़ोगे तो और अच्‍छा लिख पाओगे। विचार तो हैं पर उन्‍हें और अच्‍छे तरीके से जाहिर करने का प्रयास करें। बिल्‍कुल हतोत्‍साहित मत हों। एक दिन इस कलम और विचारों की दुनिया जरूर दीवानी हो जाएगी।

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार हमे प्रेरणा देते है आपके अमूल्य विचारो का स्वागत है